Monday, September 6, 2021

तलाश

हर लहर को तलाश है किनारे की, 

हर नदी तलाश रही है अपना समंदर, 

हर दीवाना को तलाश एक दिल की, 

तलाश में जो बेचैनी है न, 

उसको भी तलाश है, तलाश खत्म होने की,

किसी न किसी तलाश में सभी गुम हैं, 

सफर भी, मुकाम भी, इंतजार भी, मंजिल भी,  

हर किसी को तलाश है,  

खुशी की, साथ की, प्यार की,  

किसी को त'आरुफ़ की है तलाश,   

तो कोई तकदीर की तस्वीर में खुद को रहा है तलाश। 

तमन्नाओं और ख्वाबों का हिस्सा बन्ना चाहता है कोई, 

तो किसी की ख्वाहिश है, तारीखों में तलाशा जाए,  

बस हो कुछ यूं कि हर तलाश जिंदगी के और करीब लाए, 

हर तलाश के बाद हम खुद को ज्यादा जान पाएं। 


  


Friday, August 13, 2021

आज़ादी


देश तो आज़ाद है मेरा..
लेकिन क्या होती है आज़ादी? 
क्या आज़ाद है देश का नौजवां?  
क्या आज़ाद है देश की बेटियां? 
सोचिए तो ए-जानाब आखिर कितना आज़ाद 
है हिदोस्तान? 

संविधान पर अपने गर्व है मुझको, 
लेकिन क्या वाकई है "धर्म" की आज़ादी?  
कानून तो सारे हैं यहां, 
पर क्या कर सकते लोग मर्जी से शादी,
हक मुझे हैं सब यहां, 
लेकिन क्या है मुझे बोलने की आज़ादी,  
देश तो आज़ाद है मेरा, 
लेकिन कहां है असली आज़ादी?

स्कूल तो गली गली में हैं, 
लेकिन क्या सबको मिल रही है,  
पढ़ने की आज़ादी?
भूख से आज़ाद नहीं हम, 
न है गरीबी से आज़ादी, 
सोच में जकड़ी आज़ादी, 
न्याय में जकड़ी आज़ादी,
बल में जकड़ी आज़ादी,  
देश तो आज़ाद है मेरा, 
लेकिन क्या है असली आज़ादी? 

कभी संस्कारों, कभी रिवाज़ों, 
कभी रिवायतों की भेंट चढ़ती है आज़ादी, 
कहीं बंधनों, कहीं जिम्मेदारियों के दायरों
में सिमटती है आज़ादी, 
कभी सोच, कभी ग़म, कभी प्यार में भी 
बंध जाती है आज़ादी, 
देश तो आज़ाद है मेरा, 
लेकिन क्या होती है आज़ादी? 

 
 

Monday, July 26, 2021

आखिरी पन्ना


कई लोग कहते हैं, 

आसमां से पानी प्यार की तरह बरसता है,

इस बात पर मुझे कम ही यकीन होता है, 

ये तो मोहब्बतों का मौसम है, 

फिर भी न जाने क्यों इस मौसम में, मेरा दिल रोता है,

एक खालीपन सा है अंदर, 

हर इच्छा, हर चाह को दबाना सीख गई हूं, 

बारिश देख कर मुस्कुराना सीख गई हूं, 

नम हुईं आंखों में भरे पानी को, 

बारिश के साथ बहाना सीख गई हूं, 

खुद को कोस-कोस कर परेशान हूं, 

अपने प्यार करने से हैरान हूं,

पलकों के बांध अब आंसुओं को रोक नहीं पाते, 

खुद से किए वो वादे अब दिल हैं दुखाते, 

डर लगता है मुझे, बात वो कभी जुंबा पर न आ जाए, 

बनी बनाई जिंदगी पर कहर न ढा जाए। 

 

कई लोग कहते हैं, 

दोस्ती प्यार है, लेकिन उस इश्क का क्या करें 

जो खुद से बेज़ार है, 

सोचती हूं मैं,  ये कैसी चाहत है, कैसे जज़्बात हैं,

मेरी हर सोच से परे, कभी-कभी ये खुद से शर्मसार हैं, 

फिर सोचती हूं क्यों, इसमें शर्म की क्या बात है, 

एक अच्छे दोस्त की हर किसी को दरकार है, 

वो दोस्त जो रोने पर गले से लगा ले, 

वो दोस्त जो बातों बातों में हंसा दे, 

वो दोस्त जो अपनी सोच में जगह दे, 

वो दोस्त जो जज़्बात को जज़्बातों से समझे, 

मैं नहीं कहूंगी कि ऐसे दोस्त होते नहीं लेकिन,

ये दोस्ती खुशकिस्मतों को नसीब होती है शायद। 


कई लोग कहते हैं, 

मतलब के हैं दोस्त और मतलबी जमाना है,  

मैं मानती हूं कि यूं ही नहीं किसी ने साथ निभाना है, 

मैं जानती हूं काम निकल जाने के बाद, 

सब कुछ बदल जाना है, 

अपनी औकात खुद ही बनानी है, 

अपना दर्द खुद ही मुकाना है, 

फिर न जाने क्यों मेरे इन आंसुओं 

को ठिकाने की तलाश है, 

दोस्ती और इश्क के फसाने की आस है,

इस आस पर कब तक रहूंगी जिंदा मैं, 

मुझे अब जिंदगी के आखरी पन्ने का इंतजार है।  

Tuesday, July 20, 2021

आंखों की नमी


फिर हुईं आखें नम और प्यार याद आया,

दिल में छुपा के रखा, वो ख्याल याद आया,

इस दहलींज़ पर, अकेला, मेरा इंतजार है, 

मेरे प्यार को वहां से गुजरना भी नगवार है, 

फिर भी न जाने क्यों वो शक्स बार बार याद आया.   

बुनता है बेहिसाब जज़बातों की चादर ये दिल,

फिर जार जार रोता है ये दिल,

हुईं आखें नम और प्यार याद आया,

दिल में छुपा, वो इज़हार याद आया। 


अपने इश्क की सर ज़मीन तुमको मान लिया, 

अपनी हंसी, अपनी कमी तुमको जान लिया,

हां, हमारे रास्ते अलग हैं ये भी पहचान लिया। 

बस प्यार से चलती कहां है ये दुनिया, 

सिर्फ एहसासों से पिघलती कहां है ये दुनिया, 

चाहत के रास्तों पर हम ग़म से मयस्सर हैं, 

कोई हमसे भी टूट कर करे प्यार , 

ये ख्वाब हमारा, अरमानों के सर है।

फिर हुईं आखें नम और दिल को समझाया,

जिंदगी के इस पड़ाव पर कोई नहीं है तेरा हमसाया।    

 

Friday, July 9, 2021

ऐसा क्यों होता है


ऐसा क्यों होता है? वो आस पास है, 

फिर भी बहुत याद आता है।

ऐसा क्यों होता है? बात होती है, फिर भी 

खामोशी में कुछ दबा रहता है। 

ऐसा क्यों होता है? हर पल कुछ अधूरा सा 

लगता है।  

ऐसा क्यों होता है? उसके रंग हमारे लिए नहीं है,

ये एहसास घेर जाता है। 

ऐसा क्यों होता है?  ये प्यार सही ग़लत के दायरों में क्यों बंध जाता है? 

मुस्कुराहट, दो शब्द, कुछ पल और उसकी नज़रे इनायत,

कुछ ज्यादा तो नहीं मांग रहे, फिर भी ऐसा क्यों होता है,  

सूफी सा ये प्यार कुछ मांगता नहीं, जिससे भी होता है ये उसे बांधता नहीं, 

फिर भी ऐसा क्यों होता है? 

ऐसे प्यार को समझना इतना मुशकिल क्यों होता है? 



Monday, July 5, 2021

सफर खूबसूरत है, मंजल से भी


दिल के बंद दरवाज़े किर किरा कर खुले,

जिंदगी की तंग राहों पर कुछ फूल खिले,  

इश्क, प्यार और मोहब्बत की बातें हम करने लगे, 

कुछ साथ ऐसे मिले, जो नई उमंग जगा गए। 


अजनबी शहर, नए अंदाज़, कुछ भीगे अलफाज़

सुनसान राहों में वो गाने गुनगुनाने की आवाज़, 

कभी बारिश, कभी सुहानी हवा का चहरे पर वो एहसास, 

रास्ते में कभी ढेरों बातें, तो कभी बस सवाल एक आद,  

वो शहर घूमने घूमाने का जवां सा अंदाज़, 

बेतकलुफी से पार कर गया दिल के दरों दीवार। 


मैं सोचती थी, मुझमें जो इशक है उससे दिल-ए-ज़ार न होगा,  

प्यार जो ज़हन की गलियों में खोया है उसपर गौर न होगा,  

लेकिन, जिंदगी की डोर हमारे हाथ में नहीं, 

इस सफर की भोर हमारे हाथ में नहीं, 

तो अब कोई इश्तियाक, कोई इलतजा नहीं,  

इस खूबसूरत सफर को किसी मंजिल की चाह नहीं ।  



यकीन का सफर

समय हर पल समान नहीं होता,  

खुद पर यकीन का सफर आसान नहीं होता,

कई लम्हें ऐसे आएंगे ज़िंदगी में, जिनका कोई मुकाम नहीं होता,

यकीन उनपर करो जिन्हें तुम पर भरोसा है, 

भरोसा ख़ुद पर करो, ताकत बनता है, 

सफर ज़िंदगी का तभी तो जहां- नुमा बनता है। 


तैयार रहो पग-पग पर जंग होगी, 

यकीन के सफर की हर राह तंग होगी, 

रिश्तों के भंवर पैरों को जकड़ेंगे, 

समाज के कायदे हर कदम को पकड़ेंगे, 

ऐतबार बस खुद पर करना तुम, 

प्यार पहले खुद से करना तुम, 

सूफी भी बनाएगा ये यकीन का सफर, 

परवाज़ बन कर बेझिझक बढ़ना तुम।  


जो साथ दें उनपर न्यौछावर होना, 

जो न समझें उनके लिए मत रोना, 

जिंदगी क्या है चंद लम्हों की जागीर है, 

अपनी झोली को यादों से भरना, 

गम न करना किसी के बिछड़ने का, 

हर कोई लेकर आता है समय गिनती का, 

खुद के दायरों से हमें खुद ही है जीतना  

तभी तो बनेगा सफर यकीन का। 







Tuesday, June 29, 2021

ये कैसा इश्क


धड़कनो का तेज़ होना पहली बार जाना है, 

इंतज़ार की इंतहां को पहली बार पहचाना है,

मन कुछ इस तरह से हारा है, 

न जाने किस मुशकिल की ओर इशारा है, 


तुम्हारी खुशबू  हर तरफ से आ रही है, 

मेरी मौजूदगी तुम्हारा अक्स चाह रही है, 

तुम्हारे आसपास होने से, अपने वजूद का एहसास होता है, 

अब धीरे धीरे खुद से प्यार हो रहा है।  

बात शादय न हो कुछ खास करने को,  

तेरा सामने बैठना ही बहुत है सांस भरने को, 

आखों को तेरी आदत सी हो गई है,  

मेरी राहों को तुम्हारी चाहत सी हो गई है,  

कहां ले जाएगा ये दिल न जाने, 

मीठी सी उलझन की आहट सी हो गई है, 


तुम खुश हो तो खुश रहता है मन, 

तुम्हें उदास देख, डूबती है हर धड़कन, 

जुंबा पर कभी नहीं आएगा ये ऐसा इश्क है, 

पन्नों में दबा रह जाएगा ये ऐसा इश्क है, 

खुद से पूछते हैं हम ये कैसा इश्क है? 

दुआ बन जाएगा ये ऐसा इश्क है।

Saturday, June 19, 2021

आंसू

मुझसे इन आंसुओं कि वजह न पूछो,

ये बिना इजाज़त ही छलक जाते हैं, 

तुम्हारे साथ होने पर भी तुम्से दूर होने का गम मनाते हैं, 

इनको रोकती हूं, समझाती हूं, 

लेकिन मन से बार बार हर जाती हूं, 

जानती हूं, न ये फासलों को 

मिटा पाएंगे, न जिंदगी की कशमकश को 

सुलझा पाएंगें, बस बहते जाएंगे। 


मुझसे इन आंसुओं कि वजह न पूछो, 

ये मेरे दिल की जुबां भी न बन पाएंगे, 

गलत, सही की समझ नहीं है इन्हें, 

ये मेरे हाल पर बस तरस खाएंगे, 

ये आंसू मेरे बस बहते जाएंगे, 

खुशी में मेरे दिल का साथ निभाएंगे, 

तुमहारे साथ होने के, हर पल को ये मनाएंगे। 

 

मुझसे इन आंसुओं कि वजह न पूछो, 

तुमने जो एहसास जगाएं हैं ये उनको जी रहे हैं, 

दिल की हर धड़कन के साथ ये दुआ दे रहे हैं,  

सिर्फ आंखों से छलका पानी नहीं हैं ये,  

तुम्हें बुलंद परवाज़ देखने के जज़्बात हैं, 

मुझसे मेरे आंसुओं की वजह न पूछो......

 




एहसास


कौन हो तुम, शायद एक एहसास

एहसास जो अपना सा लगता है, 

एहसास जिसे अपनाने का जी करता है, 

किसी बंधन में बांधने का नहीं, 

बस महसूस करने का जी करता है, 

हाथ थाम कर उड़ने का जी करता है। 


पाकीज़ा सी ये दोस्ती है

बचपन की मासूमियत है इसमें,

जवानी का अल्हड़पन,  

जूनून नहीं कोई, एक सधा हुआ समंदर है,

इसे कोई नाम कैसे दे दूं, 

इसे किसी सोच से कैसे बांध दूं,

एक एहसास है ये, जिसमें डूब जाने का जी करता है। 


इस एहसास से जब राब्ता हुआ, 

खुद पर फिर से यकीन हुआ,

नहीं जानती ये क्यों हुआ, 

सही हुआ या गलत हुआ, 

अब जो हुआ सो हुआ। 


देख कर उसे आंखों को सूकून मिलता है, 

वो तारों से भरे नीले आसमान सा सुकून,

कुछ उसकी सुनने, कुछ अपनी कहने का जी करता है,

कभी बस साथ गुनगुनाने का जी करता है,

समाज की सभी बंदिशों से परे,

सब कुछ भूल जाने का जी करता है,

एहसास का रूप होता है ये जाना नहीं था,

जब मुलाकात हुई तो कुछ देर तक माना नहीं था,

लेकिन इस एहसास ने जिंदगी को ऐसे छुआ है, 

धड़कने का एहसास फिर दिल को हुआ है। 


Thursday, May 27, 2021

पहचान!

एक सननाटा सा पसरा है
हर तरफ एक बेबसी सी है
चले थे हम अपनी पहचान बनाने 
खड़ें हैं आज एक नए जहां में

ये क्या है जो घट रहा है 
इंसान का वजूद नमुकमल लग रहा है
बिखरे बिखरे ख्वाब हैं और बिखरे बिखरे जज़बे
हर तरफ अफरा तफरी सी है
एक बेचैनी सी है

कोई ठीक नहीं, कोई गलत भी नहीं 
कोई अलग नहीं, कोई साथ भी नहीं
बेरुखी सी है वक्त में
खुश रहने की बात भी बेमानी सी है

कहां खड़े हैं कुछ पता नहीं
कहां को जाएंगे जानते नहीं 
भटकी सी रूह
भटकी सी पहचान
भटका सा मन

खुद के अस्तित्व की खोज में 
खुद ही से लड़ रहे हैं हर रोज़ में
किस पहचान को बनाए रखने की कोशिश में हैं
किस जहान को सजाए रखने की कोशिश में हैं
क्या रिश्ते समेटने से पहचान बनी रहती है?
या नाम जोड़े रखने से पहचान बनी रहती है?

नाजुक सी डोर है ये जीवन, इसे जीने की तू कोशिश कर 
जो घटना है वो घटेगा, ये समझने की तू कोशिश कर
किस पहचान की चाह में है मन 
मिलना तो मिट्टी में है हर कण ......... 






Monday, March 29, 2021

MY PARENTS

 -----------------------------------------

Feel of cool breeze in the summer heat, 
Being with them is such a treat. 
They know what you want, they know what you need, 
You are the book that they read. 
Never did they burden us with their dreams, 
They only focused on making us good human beings, 
We learnt to adjust, we learnt to give, we learnt to love, 
We learnt to live and let live. 

They were there when we cried for the first time, 
They sang with us, they played with us, 
They dressed us well, they fed us better, 
He would show faith, 
In every step we take, 
When we fell, we were lovingly held,
I know freedom because of them, 
I know courage because of them,
They have been my pillar of strength. 

There were times when we could barely make ends meet, 
They still taught us to help those in need, 
There were times when our future was at stake,
She stood like a wall that no one could break,
They stood by me in thick and thin
They supported me in all my deeds,

 
They backed us even when we were against the norm,
Going against the general beliefs,
Girls could do everything; that's what he made us believe.
They made us independent, 
They made us strong, 
They only focused on making us good human beings, 
My Parents are gems absolutely unique.