Monday, July 5, 2021

यकीन का सफर

समय हर पल समान नहीं होता,  

खुद पर यकीन का सफर आसान नहीं होता,

कई लम्हे ऐसे आएंगे ज़िंदगी में, जिनका कोई मुकाम नहीं होता,

यकीन उनपर करो जिन्हें तुम पर भरोसा है, 

भरोसा ख़ुद पर करो, ताकत बनता है, 

सफर ज़िंदगी का तभी तो जहां- नुमा बनता है। 


तैयार रहो पग पग पर जंग होगी, 

यकीन के सफर की हर राह तंग होगी, 

रिशतों के भंवर पैरों को जकड़ेंगे, 

समाज के कायदे हर कदम को पकड़ेंगे, 

ऐतबार बस खुद पर करना तुम, 

प्यार पहले खुद से करना तुम, 

सूफी भी बनाएगा ये यकीन का सफर, 

परवाज़ बन कर बेझिझक बढ़ना तुम।  


जो साथ दें उनपर न्यौछावर होना तुम, 

जो न समझें उनके लिए मत रोना तुम, 

जिंदगी क्या है चंद लमहों की जागीर है, 

अपनी झोली में यादें बटोरना तुम, 

गम न करना किसी के बिछड़ने का, 

हर कोई लेकर आता है समय गिनती का, 

हमें खुद ही जीतना होता है खुद के दयरों से

तभी तो बनता है सफर यकीन का। 







No comments:

Post a Comment