Friday, August 13, 2021

आज़ादी


देश तो आज़ाद है मेरा..
लेकिन क्या होती है आज़ादी? 
क्या आज़ाद है देश का नौजवां?  
क्या आज़ाद है देश की बेटियां? 
सोचिए तो ए-जानाब आखिर कितना आज़ाद 
है हिदोस्तान? 

संविधान पर अपने गर्व है मुझको, 
लेकिन क्या वाकई है "धर्म" की आज़ादी?  
कानून तो सारे हैं यहां, 
पर क्या कर सकते लोग मर्जी से शादी,
हक मुझे हैं सब यहां, 
लेकिन क्या है मुझे बोलने की आज़ादी,  
देश तो आज़ाद है मेरा, 
लेकिन कहां है असली आज़ादी?

स्कूल तो गली गली में हैं, 
लेकिन क्या सबको मिल रही है,  
पढ़ने की आज़ादी?
भूख से आज़ाद नहीं हम, 
न है गरीबी से आज़ादी, 
सोच में जकड़ी आज़ादी, 
न्याय में जकड़ी आज़ादी,
बल में जकड़ी आज़ादी,  
देश तो आज़ाद है मेरा, 
लेकिन क्या है असली आज़ादी? 

कभी संस्कारों, कभी रिवाज़ों, 
कभी रिवायतों की भेंट चढ़ती है आज़ादी, 
कहीं बंधनों, कहीं जिम्मेदारियों के दायरों
में सिमटती है आज़ादी, 
कभी सोच, कभी ग़म, कभी प्यार में भी 
बंध जाती है आज़ादी, 
देश तो आज़ाद है मेरा, 
लेकिन क्या होती है आज़ादी? 

 
 

No comments:

Post a Comment